रूलर का प्रयोग करना :- पेजमेकर के तहत पेज के साथ Ruler का प्रयोग करना पूरी तरह से प्रयोगकर्ता पर निर्भर करता है. यदि फ़ाइल खोलते समय पेज के साथ Ruler नही दिखाई दे रहा हो तो इसे View menu के द्वारा “Show Ruler” आदेश दे कर खोला जा सकता है.  

टेक्स्ट के लिए फोंट निर्धारित करना :- पेजमेकर में किसी टेक्स्ट के लिए विंडोज में उपस्थित फोंट का प्रयोग कर सकते है, इसके द्वारा लिखावट में परिवर्तन कर सकते है इसे Type menu के Font के Pop-up menu से उचित फोंट का चुनाव कर सकते है.

फोंट का आकार :- पेजमेकर में प्रयोग किये गए फोंट के आकार में परिवर्तन कर सकते है इसके लिए Type menu में Size के Pop-up menu से उचित आकार के नंबर पर क्लिक करके आकार में परिवर्तन कर सकते है. “Other” विकल्प में यदि सूची में वह साइज़ उपस्थित नही है जो आकार हम चाहते है वह संख्या हम “Other” विकल्प में डाल सकते है.

 शब्दों की बिच की दुरी में परिवर्तन करना :- पेजमेकर में किसी वर्ड के साथ आसानी से वर्ड की बिच की दुरी में परिवर्तन किया जा सकता है. इसे करने के लिए Type menu में Expert Tracking के Pop-up मेन्यु से निम्नलिखित आदेश पर क्लिक करके आदेश दिया जाता है.

पंक्तियों की बिच की दूरी में परिवर्तन करना :- पेजमेकर के एक से अधिक पंक्तियों की बिच की दुरी में परिवर्तन कर सकते है. इसे Type menu में Leading के Pop-up menu से निम्नलिखित आदेश पर क्लिक करके पंक्तियों की बिच की दुरी परिवर्तन किया जा सकता है.

फोंट के आकार में परिवर्तन करना :- पेजमेकर में किसी भी टेक्स्ट के साथ आकार में परिवर्तन किया जा सकता है इसके लिए Type menu में Type Style के Pop-up मेन्यु से निम्नलिखित आदेश पर क्लिक करके प्रयोग किया जा सकता है.

अछरों की चौड़ाई घटना बढ़ाना :- टेक्स्ट लिखने के लिए जिस फोंट को प्रयोग किया जा रहा है, उसके चौड़ाई में परिवर्तन किये बिना Font Size की Size बिना बदले हुए भी किया जा सकता है इसे Type menu में Horizontal scale के Pop-up मेन्यु से निम्नलिखित आदेश पर क्लिक करके आदेश दिया जा सकता है. 

पेजमेकर में नये पेज को जोड़ना :- पेजमेकर में किसी फ़ाइल में 999 पेजों को और अधिक जोड़ा जा सकता है. इसे Layout menu से “Insert Page” आदेश देकर जोड़ा जा सकता है. जिसका एक Dialog Box इस प्रकार हमारे सामने आता है.

Layout >> Insert Pages↵

Insert :- इस बाक्स में पेजों की सख्या डाला जाता है, जितने पेजों की आवश्यकता होती है.

Page(s) :- इस ड्राप डाउन लिस्ट बाक्स दो विकल्प होते है. आफ्टर, बिफोर.  जिनके द्वारा जोड़े जाने वाले पेजों को करेक्ट पेज के आगे जोड़ना है या पहले, इसे यहाँ से तय करते हैं.

Master Page :- इस ड्राप डाउन लिस्ट बाक्स से मास्टर पेज का प्रयोग करना है या नही इसका चुनाव यहाँ से किया जाता है.

शब्दों को रिप्लेस करना :- पेजमेकर में पहले से टाइप किये गए किसी शब्द को किसी अन्य शब्दों में स्थानांतरित (रिप्लेस) किया जा सकता है इसके लिए सबसे पहले Edit menu से Edit Story आदेश देते है फिर Utilities menu से Change आदेश देते हैं.

Utilities>> Change (^H)↵

फाईड हवाट :- इस आप्शन में वह शब्द डालते है जिसे हमे खोजना होता है.

चेन्ज टू :- इस आप्शन में वह शब्द डाला जाता है जिसे खोजे जाने वाले शब्द में बदलना होता है.

 कैरेक्टर एट्रीब्यूट:- इस विकल्प में दोनों शब्दों के फोंट, साईज, स्टाइल आदि का निर्धारण करके आके रेडियो बटन पर क्लिक करते है.

 

बहरी फ़ाइल को जोड़ना :- जैसा की हम सब जानते है की पेजमेकर का सबसे ज्यादा प्रयोग किताबी कामों के लिए किया जाता है, इसलिए टेक्स्ट लिखने का काम लोग सीधे न करके किसी अन्य प्रोग्राम की मदद लेते है और इम्पोर्ट करके जोड़ देते है और किताब के अनुसार सेटिंग कर लेते है.

 File >> Place (^D)

 

फ़ाइल नेम के विकल्प में उस फ़ाइल का नाम इंटर करते है जिनके बाद पेज पर हमारा माउस प्वाइंटर एक विशेष रूप में बदल जाता है, तथा पेज पर डैग करते है. जिससे वह फ़ाइल पेज पर आ जाता है.

 

error: Content is protected !!
Scroll to Top