What is MS Dos

माइक्रोसॉफ्ट डॉस क्या है

आइए हम सब समझते हैं Dos क्या होता है वास्तव में Dos, Windows की भांति, Linux की भांति, Macintosh की भांति एक Operating System Program ही होता है. इसे वर्षों पहले जब माइक्रो कंप्यूटर की शुरुआत हुई तो इसे सर्वप्रथम IBM (International Business Machine) कंपनी के द्वारा तैयार किया गया था जिसका नाम PC Dos रखा गया था और इधर बाद में Microsoft ने MS Dos के नाम से बाजार में उतारा. 

Full notes tally in Hindi

अब हम यहाँ यह समझते हैं कि Dos वास्तव होता क्या है, वास्तव में Dos CLI यानी Character Line Interface पर आधारित एक Operating System Program होता है इसका अहमियत बिल्कुल उतना ही है जितना कि GUI यानी Graphic User Interface पर आधारित कोई Operating System Program होता है. Dos में ठीक उसी प्रकार कार्य किये जाते है जिस प्रकार Windows Operating System या Linux में होते हैं. लेकिन Dos में इन सभी कार्यों को करने का एक तरीका होता है जिसे Command कहते हैं. जैसे अगर हमारे सामने Dos खुला है तो उसे देखने में ब्लैक एंड वाइट डिस्प्ले के अलावा और कुछ नजर नही आता है. Microsoft Dos (Ms-Dos) में किसी भी प्रकार के कार्य को करने के लिए Command देने की आवश्यकता पड़ती है और यह Command सूत्र के अनुसार होते हैं इन्हें गलती टाइप कर देने से या खुद भूल जाने से हम उसमें कार्य नहीं कर पाएंगे. Dos को आज के समय हर स्टूडेंट्स को जाना चाहिए क्योंकि इसका फायदा यह है कि अगर कोई व्यक्ति Dos चलाना सीख जाए तो उसे Java, C और C++ जैसे प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को और ही आसानी से समझा जा सकता है. Dos क्योंकि कैरेक्टर लाइन इंटरफेस पर आधारित होता है और इसमें सभी कार्य कमांड द्वारा किए जाते हैं तो Dos को Command के नाम से भी जाना जाता है. हो सकता है कोई व्यक्ति आप से यह सवाल करें कि, क्या आप Command जानते हैं ? इसका मतलब कि वह यह जानना चाहता है कि क्या आप Dos जानते हैं कि, नहीं. सवाल पर कंफ्यूज नहीं होना है क्योंकि Dos को सीधे Command के नाम से भी जाना जाता है. Windows 7, Windows 8, Windows 10 आदि में Command के नाम से ही Dos को ऑपरेट किया जाता है.

Dos में कुछ महत्वपूर्ण कमांड होतें है जिनका इस्तेमाल हम विशेष कार्य के लिए करते है. जैसे:-

  • फाइल Extension की सहयोग से किसी भी प्रोग्राम का फाइल बनाना.
  • Wild Card के प्रयोग से फाइल्स को फ़िल्टर करना.
  • हार्ड डिस्क का पार्टीशन करना और उसे Format करना.
  • फ्लॉपी डिस्क को फॉरमेट करना.
  • हार्ड डिस्क या फ्लॉपी डिस्क का बैकअप लेना.

अब यहाँ आप जानेंगे की Dos के द्वारा कंप्यूटर की किस काम के लिए स्वतः ही ऑपरेट किया जाता है.

  • डॉस CPU और Memory को अपने नियंत्रण में रखता है.
  • यह वायरस की जांच करता है.
  • सभी Application Programs को हार्डवेयर से जोड़ता है.
  • कंप्यूटर को चालू करने में Dos का ही पूरा सहयोग मिलता है.

यह Users से Input लेता है और रिजल्ट के रूप में Output  प्रदान करता है.

error: Content is protected !!
Scroll to Top